Ticker

6/recent/ticker-posts

इल्तुतमिश | Iltutmish

     इल्तुतमिश | Iltutmish 

 दास वंश के सुल्तानों में इल्तुतमिश सबसे अधिक महान था।  शमसुद्दीन इल्तुतमिश ही दिल्ली सल्तनत का वास्तविक संस्थापक था। वह एक दास था जो केबल अपनी योग्यता के बल पर इतने ऊंचे पद पर पहुंच सका। वह मुलतः तुर्किस्तान की इलबरी जाति से था। वह एक उच्च परिवार का था बाल्यकाल में वह अत्यंत सुंदर था और अत्यन्त कुशाग्र बुद्धि का था। इल्लुतमिश की प्रतिभा से उसके भाई ईर्ष्या करते थे अतः उन्होंने उसे पैतृक निवास व संरक्षण से वंचित करने का प्रयास किया। उसे बुखारा के एक व्यापारी के हाथ बेच दिया गया, जिससे एक अन्य व्यक्ति ने खरीदकर कुतुबुद्दीन ऐबक के हाथ बेच दिया। अपनी योग्यता के बल से इल्तुतमिश धीरे धीरे अपना दर्जा बढ़ाता गया।

qutub minar delhi
क़ुतुब मीनार दिल्ली -फोटो क्रेडिट britannica.com


👉 कुतुबुद्दीन ने उसकी प्रतिभा को पहचान कर बदायूं का सूबेदार  नियुक्त कर दिया।

👉 Qutbuddin Aibak married his daughter to Iltutmish.

👉 अपनी सेवाओं के बदले मुहम्मद गौरी के आदेश से इल्तुतमिश को दासता से मुक्ति मिल गई और साथ ही अमीर- उल- उमरा की उपाधि भी मिल गई।

👉 कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के पश्चात आराम शाह नामक एक अयोग्य व्यक्ति को सिंहासन पर बैठा दिया गया।

👉 परंतु आराम शाह की अयोग्यता से सरदारों ने सिंहासन के लिए इल्तुतमिश को आमंत्रित किया और इल्तुतमिश ने बिना देर किए दिल्ली की गद्दी पर अधिकार कर लिया।

👉 बगदाद के खलीफा ने इल्तुतमिश को मान्यता प्रदान कर दी और उसे सम्मान का चौगा भेंट किया।

👉Iltutmish received the title of Sultan-e-Azam (Great Ruler) from the Khalifa. इल्तुतमिश को सुल्तान -ए- आजम ( महान शासक ) की उपाधि प्रदान की खलीफा से प्राप्त हुई।

👉 इल्तुतमिश ने  अपने सिक्कों पर स्वयं को खलीफा का दूत प्रदर्शित किया।

👉 शासक बनने के पश्चात इल्तुतमिश को अपने दो सबसे कड़े प्रतिद्वंद्वीयों से सामना करना पड़ा। एक ताजुद्दीन यल्दौज और दूसरा उच व मुल्तान के प्रांत अध्यक्ष नसरुद्दीन कुबाचा।

👉ताजुद्दीन यल्दौज-  ताजुद्दीन यल्दौज स्वयं को मोहम्मद गौरी का उत्तराधिकारी समझता था, और वह यह सहन नहीं कर सकता था कि भारत में इस्लामी राज्य स्वाधीन हो जाए। 1214 ईस्वी में यल्दौज ने लाहौर पर अपना अधिकार जमा लिया। इल्तुतमिश  के लिए यह एक बड़ी असहनीय स्थिति थी।  इल्तुतमिश यल्दौज के विरुद्ध बढ़ा और थानेश्वर के निकट तराइन के युद्ध में उसे परास्त कर दिया। यल्दौज को बंदी बनाकर बदायूं के एक दुर्ग में कैद कर दिया गया जहां बाद में उसकी हत्या कर दी गई। इस प्रकार इल्तुतमिश ने अपने मार्ग से एक सबसे बड़े शत्रु का सफाया कर दिया।

👉 नासिरुद्दीन कुबाचा- उच व मुल्तान के प्रांताध्यक्ष नासिरुद्दीन कुबाचा का दमन करने में भी  इल्तुतमिश सफल रहा।

👉 1227 ईस्वी में उद्दंड कुबाचा को इल्तुतमिश ने पंजाब से खदेड़ दिया।

👉कुबाचा की पुनः उद्दण्डता से क्रोधित इल्तुतमिश ने 1227 ई० में कुबाचा को पूर्णरुप से पराजित कर दिया

👉बंगाल में अली मरदान ने स्वयं मो स्वतन्त्र घोषित कर दिया था। अतः इल्तुतमिश में 1225 ई० में उसके विरूद्ध अभियान का स्वयं नेतृत्व कर मरदान के उत्तराधिकारी गयासुद्दीन को दण्डित किया।

👉1229 ई० में बंगाल में खिलजी मालिकों ने पुनः विद्रोह किया परन्तु इल्तुतमिश ने बिद्रोही 'बलका' को परास्त कर अलाउद्दीन जानी को बंगाल का प्रबंधक बना दिया।

राजपूत-

👉 1226 ईस्वी में इल्तुतमिश ने रणथंबौर का घेरा डालकर   उदयसिंह को आत्मसमर्पण करने के लिए बाध्य कर दिया और कर चुकाने की शर्त पर सत्ता वापस की।

👉 1231 ईसवी में ग्वालियर का भी घेरा डालकर वहां के साथ-साथ मलाई वमर्मदेव को आत्मसमर्पण करने के लिए विवश कर दिया।

👉 1234-35 ईसवी में इल्तुतमिश ने मालवा के एक अभियान का नेतृत्व करते हुए उज्जैन को लूटा और उज्जैन में महाकाल के मंदिर का संहार किया।

मंगोल आक्रमण

👉  इल्तुतमिश के शासनकाल में ही 1221 ईसवी में सर्वप्रथम मंगोल अपने प्रसिद्ध नेता चंगेज खाँ के अधीन सिंधु नदी के तट पर उपस्थित हुए। 

चंगेज का जन्म 1155 ईस्वी में हुआ था तथा उसका वास्तविक नाम तिमुचीन था (Genghis was born in 1155 AD and his real name was Timuchin.)।

👉 चंगेज खाँ ने ख्वारजम  अथवा खीवा के अंतिम शाह जलालुद्दीन मंगबर्नी पर आक्रमण किया, तब वह (जलालुद्दीन मंगबर्नी ) भागकर पंजाब आया उसने इल्तुतमिश के राज्य में शरण मांगी, दिल्ली के सुल्तान ने अपने इस बिना बुलाए अतिथि की प्रार्थना अस्वीकार कर दिया। मंगबर्नी खोखरों से जा मिला तथा मुल्तान के नासिरुद्दीन कुबाचा को पराजित कर सिंध एवं उत्तरी गुजरात को लूटा और पारस चला गया। मंगोल भी लौट गए। इस तरह भारत एक भयानक संकट से बच गया।

👉Iltutmish's last campaign was against Banyan. इल्तुतमिश का अंतिम अभियान बनियान के विरुद्ध हुआ।

👉 29 अप्रैल 1236 ईस्वी को इल्तुतमिश का देहांत हो गया।

👉 Iltutmish's tomb is located in Delhi which is roofless.


👉 1231-32 ईसवी में इल्तुतमिश नें दिल्ली में महरौली के निकट सुप्रसिद्ध कुतुब मीनार का निर्माण पूरा कराया। यह इल्तुतमिश की महत्ता का एक जीता-जागता प्रमाण है। कुतुब मीनार का नाम कुतुबुद्दीन ऐबक के नाम पर नहीं है बल्कि यह बगदाद के निकट उच  के एक निवासी ख्वाजा कुतुबुद्दीन के नाम पर है जो निवास के लिए भारत आया था।

👉 इब्न-बतूता के मतानुसार इल्तुतमिश ने अपने प्रासाद में एक घंटी व जंजीर का प्रबंध कर रखा था जिससे पीड़ित व्यक्ति बिना अधिक कठिनाई के सुल्तान तक अपनी पहुंच कर सके।

👉 इल्तुतमिश ने लाहौर के स्थान पर दिल्ली को अपनी राजधानी बनाया।(Iltutmish made Delhi his capital in place of Lahore.)

👉इल्तुतमिश ने ही ,देश (सल्तनत) को एक राजधानी, सम्प्रभुता-सम्पन्न राज्य, एक राजतन्त्रात्मक प्रकार की शासन-व्यवस्था और तुर्कान-ए-चाहलगनी या चालिसा (चालीस अमीरों का समूह ) नामक  प्रदान किया।

👉इल्तुतमिश ने साम्राज्य को असंख्य छोटी इक्ताओं में विभाजित किया -Iltutmish divided the empire into innumerable small iqtas।

👉इक्ता का अर्थ- नगद वेतन के बदले किसी को कृषि योग्य भूमि या लगान हस्तांतरित करना।

👉 दो प्रकार के मूल सिक्कों- चाँदी का टंका और ताँबे का जीतल का प्रचलन किया।

👉 तबकात-ए-नासिरी के लेखक मिनहाज-उस-सिराज को इल्तुतुमिश  ने ही आश्रय दिया था ।

👉 अवफी  ने जवामी-उल-हिकायत की रचना इल्तुतमिश के शासनकाल में की।

Post a Comment

0 Comments