Ticker

6/recent/ticker-posts

मोतीलाल नेहरू के पिता जी कौन थे | मोतीलाल नेहरू का जीवन परिचय हिंदी में

 मोतीलाल नेहरू के पिता जी कौन थे | मोतीलाल नेहरू का जीवन परिचय हिंदी में 

मोतीलाल नेहरू

भारतीय राजनीतिक नेता, प्रसिद्ध वकील, स्वतन्त्रता सेनानी 

motilal nehru

 


जन्म: 6 मई, 1861 दिल्ली भारत

मृत्यु: फरवरी 6, 1931 (आयु 69) लखनऊ भारत

संस्थापक: स्वराज पार्टी

राजनीतिक संबद्धता: स्वराज पार्टी


प्रमुख भूमिका:  असहयोग आंदोलन


          मोतीलाल नेहरू, जिन्हें आमतौर से उनके पूरे नाम पंडित मोतीलाल नेहरू के रूप में इतिहास में स्थान दिया जाता है। उनका जन्म  6 मई, 1861, को आगरा शहर  में हुआ था। ,उनकी मृत्यु मृत्यु फरवरी 6, 1931, को लखनऊ में हुई। वह एक स्वतंत्रता सैनानी थे और उन्हें भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक नेता, स्वराज ("स्व-शासन") पार्टी के सह-संस्थापक के रूप में जाना जाता है। उनके पुत्र और भारत के प्रथम प्रधानमंत्री ,  जवाहरलाल नेहरू के पिता के रूप में भी प्रसिद्धि प्राप्त है।

मोतीलाल नेहरू का प्रारम्भिक जीवन और उनके पिता का नाम

         उनका जन्म मूल रूप से कश्मीरी  के एक समृद्ध ब्राह्मण गंगाधर के पुत्र के रूप  में हुआ था। उनकी शिक्षा पश्चिमी शिक्षा पद्धति से प्रारम्भ हुयी।  और वह अंग्रेजी शिक्षा पाने वाले अपने परिवार के प्रथम सदस्य थे। कानून की पढाई की तरफ आकर्षित होकर वह इलाहबाद के म्योर केंद्रीय महाविद्यालय में शिक्षा के लिए गए। किन्तु स्नातक ( बी.ए.) की अंतिम वर्ष की परीक्षा नहीं दे पाए। लेकिन उसके बाद उन्होंने कैम्ब्रिज से अपनी वैरिस्टर की उपाधि प्राप्त की।

मोतीलाल नेहरू की पत्नी और बच्चे

     मोतीलाल नेहरू की पत्नी का नाम स्वरूपा रानी था। उनके बच्चो में जवाहरलाल नेहरू और दो बेटियां विजयलक्षी पंडित, और कृष्ण थी। कृष्णा आगे चलकर कृष्ण हठीसिंह के नाम से जनि गयीं।

वकालत और स्वतंत्रता संग्राम


       1896 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय में अधिवक्ता के रूप में कार्य प्रारम्भ किया। उन्होंने अपनी मध्य आयु तक वकील के पेशे को त्याग दिया और स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लेने लगे।  1907 में उन्होंने इलाहाबाद में,कांग्रेस के एक प्रांतीय की सम्मेलन की अध्यक्षता की। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (कांग्रेस पार्टी) का सम्मेलन, एक राजनीतिक संगठन जो भारत के लिए प्रभुत्व की स्थिति के लिए प्रयास कर रहा है। 1919 तक उन्हें उदारवादी माना जाता था (जिसने संवैधानिक सुधार की वकालत की, उग्रवादियों के विपरीत, जिन्होंने आंदोलन के तरीकों को अपनाया), जब उन्होंने अपने नए कट्टरपंथी विचारों को एक दैनिक समाचार पत्र, द इंडिपेंडेंट के माध्यम से जाना।
1919 में अमृतसर में अंग्रेजों द्वारा सैकड़ों भारतीयों के नरसंहार ने मोतीलाल को महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित किया, कानून में अपना करियर छोड़ दिया और जीवन की एक सरल, गैर-अंग्रेजी शैली में बदल गए। 1921 में उन्हें और जवाहरलाल दोनों को अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर लिया और छह महीने के लिए जेल में डाल दिया।

     1923 में मोतीलाल ने स्वराज पार्टी (1923-27) को स्थापित करने में मदद की, जिसकी नीति केंद्रीय विधान सभा के लिए चुनाव जीतना और उसकी कार्यवाही को भीतर से बाधित करना था। 1928 में उन्होंने कांग्रेस पार्टी की नेहरू रिपोर्ट लिखी, जो स्वतंत्र भारत के लिए एक भावी संविधान था, जो डोमिनियन स्टेटस देने पर आधारित था। अंग्रेजों द्वारा इन प्रस्तावों को अस्वीकार  करने के बाद, मोतीलाल ने 1930 के सविनय अवज्ञा आंदोलन में भाग लिया जो नमक मार्च अथवा दांडी मार्च से संबंधित था, जिसके लिए उन्हें जेल में डाल दिया गया था। रिहाई के तुरंत बाद उनकी मृत्यु हो गई। उनकी मृत्यु 1931 में इलाहबाद में हुयी।
    मोतीलाल नेहरू ने इलाहबाद ( अब प्रयागराज ) में एक शानदार भव्य भवन का निर्माण कार्य जिसे उन्होंने आनंद बहन नाम दिया था।
  यह महत्वपूर्ण है कि उनके पूर्वज दिल्ली के राज कौल थे। जबकि उनके विषय में विभिन्न प्रकार की झूठी अफवाह फैलाई जाती हैं।

मोतीलाल नेहरू के पिता गंगाधर का परिचय

     मोतीलाल नेहरू के पिता का नाम गंगधार नेहरू था। उनका जन्म 1827 को हुआ था और मृत्यु 4 फरवरी 1861 को आगरा में हुयी। भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम 1857 की क्रांति के समय वे दिल्ली के कोतवाल थे। जब दिल्ली में विद्रोहियों और अंग्रेजी सेना में कत्लेआम शुरू हुआ तब गंगाधर नेहरू अपनी पत्नी जियोरानी देवी ( इन्द्राणी )  और चार बच्चों  आगरा में आ गए। जहाँ 1861 में उनकी मृत्यु हो गयी। 

Post a Comment

0 Comments